Skip to content
Home | Raigarh News : वेदांता के बर्रा कोल ब्लॉक का विरोध शुरु, माइंस के भविष्य पर उठे प्रश्नचिन्ह, ग्रामीणों ने दिया ज्ञापन

Raigarh News : वेदांता के बर्रा कोल ब्लॉक का विरोध शुरु, माइंस के भविष्य पर उठे प्रश्नचिन्ह, ग्रामीणों ने दिया ज्ञापन

रायगढ़। खरसिया तहसील में बर्रा कोल ब्लॉक का आवंटन होने के बाद इधर विरोध शुरू हो गया है। प्रभावित होने वाले गांवों के ग्रामीणों ने विरोध स्वरूप ज्ञापन भी सौंपा है। वेदांता को कोल ब्लॉक शुरू करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। रायगढ़ जिले में धरमजयगढ़, तमनार और घरघोड़ा के बाद अब खरसिया तहसील में भी कोयला खदान शुरू होने वाला है। कोयला मंत्रालय ने बर्रा कोल ब्लॉक का आवंटन भारत एल्युमिनियम कंपनी लिमिटेड को किया था। नीलामी के जरिए इस कमर्शियल कोल ब्लॉक को कंपनी ने प्राप्त किया था।

जून 2022 में करीब 24 कोल ब्लॉक के लिए 38 बिड आई थी। दोबारा हुई नीलामी में 11 खदानों के लिए कंपनियों ने बोली लगाई। खरसिया के बर्रा कोल ब्लॉक के लिए भारत एल्युमिनियम कंपनी लिमिटेड ने बोली लगाई थी। इस खदान के लिए किसी दूसरी कंपनी ने बिड ही नहीं डाली थी। कोल मिनिस्ट्री ने कोल ब्लॉक डेवलपमेंट एंड प्रोडक्शन एग्रीमेंट भी साइन करवा लिया है। लेकिन इधर विरोध शुरू हो गया है। बर्रा कोयला खदान के कारण बड़ी आबादी बसाहट प्रभावित होने वाली है। ग्रामीणों ने जोबी चौकी प्रभारी को ज्ञापन दिया है। उनका कहना है कि इस कोयला खदान के कारण आदिवासियों के जल, जंगल और जमीन छिन जाएंगे। इसलिए यह खदान नहीं खुलने देंगे।

होगा बहुत बवाल
अब तक तमनार और घरघोड़ा में कोयला खदानें खुली हैं। पहली बार खरसिया ब्लॉक भी अब इसे प्रत्यक्ष प्रभावित होने वाला है। इसलिए विरोध ज्यादा हो रहा है। बर्रा कोयला खदान को शुरू करवा पाना न तो प्रशासन के लिए आसान होगा न बालको प्रबंधन के लिए। भू-अर्जन के पूर्व भारी बवाल होने की आशंका है।

error: Don\'t copy without permission.This is a violation of copyright.